Safar Ki Dua In Hindi Puri सफर की दुआ Roamn English Urdu Arbic

Puri safar ki dua in hindi सफर की दुआ हिंदी में, उर्दू, इंगलिश, रोमन इंग्लिश Roman, Arbi और इस्लामी तरीके से सफर की 26 खास दीनी बाते. for car, flight

Safar Ki Dua In Hindi Puri सफर की दुआ Roamn English Urdu Arbic

safar_ki_dua dua_e_safar
safar_ki_dua dua_e_safar 


Safar Ki Dua - हर मोमिन मुसलमान को चाहिए कि, अब चाहे वह मर्द हो या औरत जब भी सफर का इरादा करें या सफर में निकल जाए तो सफर की दुआ पढ़ ले। 
इससे आप सफर में होने वाले हादसा, एक्सीडेंट और हर बला से महफूज रहेंगे। 

इंशाअल्लाह, अल्लाह ताला की रहमत और बरकत इस सफर की दुआ से आप पर सफर के दौरान रहेंगी,

सफर की दुआ पढ़ ले चाहे आप पैदल सफर कर रहे हो, साइकिल (Cycle), बाइक (Bike) या ट्रेन (Train),  बस (Bus) या फिर हवाईजहाज (Flight) में। 

किसी भी चीज में आप सफर कर रहे हो तो सफर का नियत कर लेंगे इंशा अल्लाह ताला सफर की नीयत से आप सफर में महफूज रहेंगे नीचे सफर की दुआ हिंदी में (In Hindi), इंग्लिश में (In English), रोमन इंग्लिश में (In Roman English) और उर्दू में (In Urdu) दी गई। 

पूरी सफर की दुआ Puri Safar Ki Dua In Hindi


सफर की दुआ हिंदी में / Safar Ki Dua In Hindi

बिस्मिल्लाही वल्हम्दु लिल्लाहि सुब्हानल लज़्ज़ी साखखारा लना  हाज़ा वमा कुन्ना  लहू मुक़रिनीन व इन्ना इला रब्बिना लमून कालीबुन। 

तर्जुमा :-अल्लाह के नाम से शुरू, वह ज़ात पाक है जिसने हमारे लिए इसे मुती’ कर दिया और हम इसे क़ाबू में  लाने वाले न थे | और बेशक हम अपने रब्ब की तरफ लौटने वाले है|



सफर की दुआ Safar Ki Dua अरबी में 


بِسْمِ اللهِ وَالْحَمْدُ لِلَّهِ سُبْحَانَ الَّذِيْ سَخَّرَ لَناَ هَذَا وَمَا كُنَّا لَهُ مُقرِنِيْنَ وإِنَّا إِلَى رَبِّناَ لمُنْقَلِبُوْنَ



सफर की दुआ उर्दू में / Safar Ki Dua In Urdu


 الله کے نام سے شروع, وہ ذات پاک ہے جس نے ہمارے لیے اسے مطیع کر دیا اور ہم اسے قابو میں لانے والے نہ تھے  اور بےشک ہم اپنے رب کی طرف لوٹنے والے ہیں



सफर की दुआ इंग्लिश में / Safar Ki Dua In English


Bismillahi Walhamdu Lillahi Subhaanal-lazzee Sakhkhara lanaa Haaza Wama Kunna Lahu Muqrineen. Wa Inna Ilaa Rabbina Lamun Qaliboon


“With The Name of ALLAH, Glory be (to) the One Who(has) subjected to us this, and not we were of it capable. And indeed, we to our Lord, will surely return.”



सफर की दुआ रोमन इंग्लिश में / Safar Ki Dua In Roman English


Bismillahi Walhamdu Lillahi Subhaanal-lazzee Sakhkhara lanaa Haaza Wama Kunna Lahu Muqrineen. Wa Inna Ilaa Rabbina Lamun Qaliboon


ALLAH ke naam se shuru, wo zaat paak hai jisne hamare liye ise mutee’ kar diya aur ham ise qaboo mein lane wale na the.



    सफर करते वक़्त Car, Flight etc में Safar Ki Dua की 26 जरुरी बाते In Hindi 

  • चलते वक़्त अज़ीज़ों , दोस्तों से कुसूर मुआफ़ करवाइये और जिन से मुआफ़ी तलब की जाए उन पर लाज़िम है कि दिल से मुआफ़ कर दें । हदीसे मुबारक में है कि जिस के पास उस का ( इस्लामी ) भाई मा'ज़िरत लाए , वाजिब है कि क़बूल कर ले ( या'नी मुआफ़ कर दे ) वरना हौजे कौसर पर आना  न मिलेगा । ( फ़तावा र - ज़विय्या मुखीजा , जि . 10 , स . 627 ) 


  • किसी की अमानत पास हो या क़र्जा हो तो लौटा दीजिये , जिन के माल नाहक़ लिये हों वापस कर दीजिये या मुआफ़ करवा लीजिये , पता न चले तो उतना माल फु - करा को दे दीजिये।


  • नमाज़ , रोज़ा , जकात , जितनी इबादात ज़िम्मे हों अदा कर लीजिये और ताख़ीर के गुनाह की तौबा भी कीजिये । इस सफ़रे मुबारक Safar Mubarak का मक्सद सिर्फ अल्लाह और उस के हबीब की Ki खुशनूदी हो रियाकारी और तकब्बुर से जुदा रहिये।


  • औरत के साथ जब तक शोहर या महरम बालिग काबिले इत्मीनान न हो जिस से निकाह हमेशा को हराम है सफ़र हराम है , अगर करेगी हज हो जाएगा मगर हर कदम पर गुनाह लिखा जाएगा । ( बहारे शरीअत , जि . 1 , स . 1051 ) ( येह हुक्म सिर्फ सफ़रे हज Safar Hajj के लिये ही नहीं , हर सफ़र के लिये है ) 


  • किराए की गाड़ी पर जो कुछ सामान बार ( LOAD ) करना हो , पहले से दिखा दीजिये और इस से ज़ाइद बिगैर इजाज़ते मालिक गाड़ी में न रखिये । हिकायत : सय्यिदुना अब्दुल्लाह बिन मुबारक  , को सफ़र पर रवाना    होते वक्त किसी ने दूसरे को पहुंचाने के लिये ख़त पेश किया , आप , ने फ़रमाया : ऊंट किराए पर लिया है , सुवारी वाले से इजाजत लेनी होगी क्यूं कि मैं ने उस को सारा सामान दिखा दिया है और येह खत ज़ाइद शै है । 


  • हदीसे पाक में है कि : " जब तीन आदमी सफ़र को जाएं तो अपने में से एक को अमीर बना लें । "इस से कामों में इन्तिज़ाम रहता है , अमीर उसे बनाएं जो खुश अख़्लाक़ , समझदार , दीनदार और सुन्नतों का पाबन्द हो 


  • अमीर को चाहिये कि हम - सफ़र इस्लामी भाइयों की ख़िदमत करे और उन के आराम का पूरा खयाल रखे 


  • जब सफ़र  पर जाने लगें तो इस तरह रुख्सत हों जैसे दुन्या से रुख्सत होते हों । चलते वक़्त येह दुआ  पढ़िये : 

safar_ki_dua
safar_ki_dua

वापसी तक माल व अहलो इयाल महफूज़ रहेंगे। 


  • लिबासे सफ़र पहन कर अगर वक्ते मरूह न हो तो घर में चार रक्त नफ़्ल अल हम्द व कुल से पढ़ कर बाहर निकलें । वोह रक्अतें वापसी तक अल व माल की निगहबानी करेंगी 


  • घर से निकलते वक्त आ - यतुल कुर्सी और से तक तब्बत के सिवा पांच सूरतें , सब बिस्मिल्लाह के साथ पढ़िये , आखिर में भी बिस्मिल्लाह शरीफ़ पढ़िये । रास्ते भर आराम रहेगा । नीज़ उस वक़्त 

safar_ki_dua
safar_ki_dua

तर - ज - मए कन्जुल ईमान : बेशक जिस ने तुम पर कुरआन फ़र्ज़ किया वोह तुम्हें फेर ले जाएगा जहां फिरना चाहते हो ), एक बार पढ़ ले , बिलखैर वापस आएगा मरूह वक्त न हो तो अपनी मस्जिद में दो रक्अत नफ़्ल अदा कीजिये । 


  • हवाई जहाज़ के गिरने और जलने से अम्न में रहने की दुआ  : 


  • हवाई जहाज़ में सुवार हो कर अव्वल आख़िर दुरूद शरीफ़ के साथ येह दुआए मुस्तफा  पढ़िये :


  • बुलन्द मक़ाम से गिरने को तरद्दी और जलने को हरक कहते हैं । हुजूरे पाक , साहिब लौलाक , सय्याहे अफ्लाक येह दुआ मांगा करते थे । येह दुआ तय्यारे के लिये मख्सूस नहीं , चूंकि इस दुआ में " बुलन्दी से गिरने " और " जलने " से भी पनाह मांगी गई है और हवाई सफर में येह दोनों ख़तरात मौजूद होते हैं लिहाज़ा उम्मीद है कि इसे पढ़ने की ब - र - कत से हवाई जहाज़ हादिसे से महफूज़ रहे.


  • रेल या बस या कार वगैरा में 

safar_ki_dua
safar_ki_dua

और  सब तीन तीन बार , एक बार , फिर येह कुरआनी दुआ पढ़िये  सुवारी हर किस्म के हादिसे से महफूज़ रहेगी । दुआ येह है : 

safar_ki_dua
safar_ki_dua

तर - ज - मए कन्जुल ईमान : पाकी है उसे जिस ने इस सुवारी को हमारे बस में कर दिया और येह हमारे बूते ( या'नी ताकृत ) की Ki न थी और बेशक हमें अपने रब ( 12 ) की तरफ़ पलटना है | 



  • जब किसी मन्ज़िल पर उतरें तो दो रक्अत नफ़्ल पढ़ें कि ( अगर वक्ते मक्रूह न हो तो ) सुन्नत है.


  • जब किसी मन्ज़िल पर उतरें येह दुआ पढ़िये | उस मन्ज़िल में कूच करते वक्त कोई चीज़ नुक्सान न देगी । दुआ येह है : 

safar_ki_dua
safar_ki_dua

मैं अल्लाह के कामिल कलिमात के वासिते से सारी मख्लुक के शर से पनाह मांगता हूं । 



  • 134 बार रोज़ाना पढ़िये भूक और प्यास से अम्न रहेगा।


  • जब दुश्मन या रहजन ( या'नी डाकू ) का ख़ौफ़ हो सूरए लि ईलाफ़ पढ़ लीजिये  हर बला से अमान ( या'नी पनाह ) मिलेगी।


  • दुश्मन के ख़ौफ़ के वक्त येह दुआ पढ़ना बहुत मुफीद है : 

safar_ki_dua
safar_ki_dua

तरजमा : ऐ अल्लाह ! मैं तुझ को उन के सीनों के मुकाबिल करता हूं और उन की  बुराइयों से तेरी पनाह मांगता हूं ।



  • अगर कोई चीज़ गुम हो जाए तो येह कहे : 

safar_ki_dua
safar_ki_dua

( तरजमा : ऐ लोगों को उस दिन जम्अ करने वाले जिस में शक नहीं , बेशक अल्लाह ( 151 ) वादे का ख़िलाफ़नहीं करता , ( मुझे मेरे और मेरी गुमी चीज़ केदरमियान जम्झ का दे ) मिल जाएगी । 



  • हर बुलन्दी पर चढ़ते कहिये और ढाल ( या'नी ढलवान ) में उतरते 


  • सोते वक़्त एक बार आ - यतुल कुर्सी हमेशा पढ़िये कि चोर और शैतान से अमान ( या'नी पनाह ) है। 


  • जब किसी मुश्किल में मदद की ज़रूरत पड़े तो हदीसे पाक में है कि इस तरह तीन बार पुकारिये :  या'नी ऐ अल्लाह के बन्दो ! मेरी मदद करो ।


  • सफ़र से वापसी में भी बयान कर्दा गुज़श्ता आदाबे सफ़र को मल्हूज़ रखिये 


  • लोगों को चाहिये कि हाजी का इस्तिकबाल करें और उस के घर पहुंचने से कब्ल दुआ कराएं कि हाजी जब तक अपने घर में कदम नहीं रखता उस की दुआ कबूल है। 


  • वतन पहुंच कर सब से पहले अपनी मस्जिद में मरूह वक्त न हो तो दो रक्अत नफ़्ल अदा कीजिये।


  • दो रक्अत घर आ कर भी ( मक्रूह वक़्त न हो तो ) अदा कीजिये।


  • फिर सब से पुर तपाक तरीके से मुलाकात कीजिये । ( तफ़्सीली मा'लूमात के लिये बहारे शरीअत जिल्द 1 हिस्सा 6 सफ़हा 1051 ता 1066 , फ़तावा र - ज़विय्या मुखर्रजा जिल्द 10 सफ़हा 726 ता 731 से मुता - लआ फ़रमा लीजिये )



सफर करते वक़्त सफर की दुआ Safar Ki Dua हर मोमिन मर्द औरत को पढ़ लेना चाहिए और राहे सफर में क़ुरान की आयते या दरूद शरीफ का विर्द करते रहना चाहिए और ऊपर दी गई तमाम बातो का अचे से याद रखे और दुसरो तक व्हाट्सप्प या तमाम सोशल मीडिया प्लेटफार्म से शेयर करे जज़ाकल्लाह खैर.



COMMENTS

BLOGGER: 1

Name

1_muharram_date_2021_india_pakistan_saudi_arab_USA,1,15_Shaban,1,Abu_Bakr_Siddiq,2,Ahle_bait,6,Al_Hajj,4,ala_hazrat,5,Allah,1,Astaghfar,1,Aulia,8,Azan,2,Baba_Tajuddin,2,Bismillah_Sharif,3,Chota_Darood_Sharif,1,Darood_Sharif,3,Date_Palm,1,Dua,14,Dua_E_Masura,1,Dua_iftar,1,Dua_Mangne_Ka_Tarika_Hindi_Mai,1,Duniya,1,English,6,Fatiha Ka Tarika,2,Fatima_Sughra,1,Gaus_E_Azam,6,Gunahon_Ki_Bakhshish_Ki_Dua,1,Gusal_karne_ka_tarika,1,Haji,1,Hajj,9,Hajj_And_Umrah,1,Hajj_ka_Tarika,1,Hajj_Mubarak_Wishes,1,Hajj_Umrah,1,Hajj_Umrah_Ki_Niyat_ki_Dua,1,Happy_Valentines_Day,1,Hazarat,3,Hazrat_ali,2,Hazrat_E_Sakina_Ka_Ghoda,1,Hazrat_Imam_Hasan,1,History_of_Israil,1,Iftar,1,iftar_ki_dua_In_hindi,1,Images,4,Imam_Bukhari,1,imam_e_azam_abu_hanifa,1,Imam_Hussain,1,Isale_Sawab,3,Islahi_Malumat,24,islamic_calendar_2020,2,Islamic_Urdu_Hindi_Calendar_2022,1,Isra_Wal_Miraj,2,Israel,1,Israel_Palestine_Conflict,1,Jahannam,2,Jakat,1,Jaruri_Malumat,41,Jibril,1,Jumma_Mubarak_Images_HD,2,Kajur,1,Kalma,3,Kalma_e_Tauheed_In_Hindi,1,Kalme_In_Hindi,1,Karbala,1,khajur_in_hindi,1,Khwaja_Garib_Nawaz,3,Kujur,1,Lyrics,3,Milad,5,muharram,16,Muharram_Me_Kya_Jaiz_Hai,1,Namaz,2,Namaz_ke_Baad_ki_Dua_Hindi,1,Palestine,4,Palestine_Capital,1,Palestine_currency,1,Palestine_Flag,1,Parda,1,PM_Kisan_Registration,2,Qawwali,1,Qubani,1,Qurbani,4,Rabi_UL_Awwal,2,Rajab_Month,7,Ramjan,6,Ramzan,16,Ramzan_In_Hindi,1,Ramzan_Ki_Sehri_Ki_Dua,1,Ramzan_Mubarak_Ho,1,Ramzan_Roza,1,Roman_English,2,Roza,12,Roza_Ki_Dua,1,Roza_Na_Rakhne_ki_Wajha,1,Roza_Na_Tutne_Wali_Chijen,1,Roza_Rakhne_Ki_Niyat,1,Roza_Tut_Jata_Hain,1,Roze Ke Makroohat,1,Roze_Ke_Kaffara,1,sabr,1,Sadaqah,1,sadka,1,Safar_Ki_Dua,1,Safar_Me_Roza,1,Sahaba,2,Shab_E_Barat,2,shab_e_barat_ki_fazilat,1,Shab_e_Meraj,6,Shab_e_meraj_History,1,Shab_e_Meraj_Ki_Namaz,1,shab_e_meraj_namaz,2,Shaba_Month,1,Shaban,4,Shaban_Month,1,Shaitan_Se_Bachne_Ki_Dua_In_Hindi,1,Shirk_O_Bidat,1,Tijarat,1,Umrah,2,Wazu,1,Youm_E_Ashura,3,Youm_E_Ashura_Ki_Namaz,1,Zakat,1,Zakat_Sadka_Khairat,1,Zul_Hijah,5,
ltr
item
Irfani-Islam - इस्लाम की पूरी मालूमात हिन्दी: Safar Ki Dua In Hindi Puri सफर की दुआ Roamn English Urdu Arbic
Safar Ki Dua In Hindi Puri सफर की दुआ Roamn English Urdu Arbic
Puri safar ki dua in hindi सफर की दुआ हिंदी में, उर्दू, इंगलिश, रोमन इंग्लिश Roman, Arbi और इस्लामी तरीके से सफर की 26 खास दीनी बाते. for car, flight
https://1.bp.blogspot.com/-FA62cXl1jiw/YP_doFNLm1I/AAAAAAAAB44/cxmVYjNGNiUs_ECp-V42LA2MyMU8zNT8wCNcBGAsYHQ/w640-h360/safar_ki_dua%2Bdua_e_safar%2B.jpg
https://1.bp.blogspot.com/-FA62cXl1jiw/YP_doFNLm1I/AAAAAAAAB44/cxmVYjNGNiUs_ECp-V42LA2MyMU8zNT8wCNcBGAsYHQ/s72-w640-c-h360/safar_ki_dua%2Bdua_e_safar%2B.jpg
Irfani-Islam - इस्लाम की पूरी मालूमात हिन्दी
https://www.irfani-islam.in/2021/06/safar-ki-dua.html
https://www.irfani-islam.in/
https://www.irfani-islam.in/
https://www.irfani-islam.in/2021/06/safar-ki-dua.html
true
7196306087506936975
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy